Plus Two Hindi Model Question Paper 2

Kerala Plus Two Hindi Model Question Paper 2

♦ General Instructions :

  • There is a ‘cool-off time’ of 15 minutes in addition to the writing time of 212 hrs.
  • You are neither allowed to write your answers nor to discuss anything with others during the cool-off time.
  • Use the ‘cool-off time to get familiar with questions and to plan your answers.
  • Read the questions carefully before answering.

सूचना : निम्नलिखित कवितांश पढ़ें और 1 से 4 तक के प्रश्नों के उत्तर लिखें।

“कुली!” पुकारते ही
कोई मेरे अंदर चौंका। एक आदमी
आकर खड़ा हो गया मेरे पास।
सामान सिर पर लादे
मेरे स्वाभिमान से दस कदम आगे
बढ़ने लगा वह
जो कितनी ही यात्राओं में
ढो चुका था मेरा सामान।

Question 1.
यह किस कविता का अंश है?
(मातृभूमि, आदमी का चेहरा, सपने का भी हक नहीं, कुमुद फूल बेचने वाली लड़की)

Question 2.
कुली पुकारते समय कौन कवि के पास आकर खड़ा हो गया?

Question 3.
वह सामान सिर पर लादे बढ़ने लगा – कैसे?

Question 4.
कवितांश की आस्वादन-टिप्पणी लिखें।

सूचना : ‘जमीन एक स्लेट का नाम है आत्मकथा का अंश पढ़ें और 5 से 9 तक के प्रश्नों के उत्तर लिखें।

हमारे पास समय न था। शादी की तैयारियां शुरू करनी थीं। भविष्य निधि से भी कछ हज़ार रुपए पिताजी निकाल लाए थे। दीदी बहुत भावुक हो गई थी और बात-बात में रो पड़ती थी। मंडप लगा दिया गया। शादी के कार्ड छप गए। मेहमान आने लगे। हल्दी-तेल चढ़ाना शुरू हो गया। हम सब व्यवस्था से संतुष्ट थे पर मन जैसे अभी से खाली-खाली और उदास था। जो उपस्थित था उसकी अनुपस्थिति अभी से दिल में घर कर गई थी।

Question 5.
‘जमीन एक स्लेट का नाम है’ किसकी रचना है?
(हिमांशु जोशी, मैथिली शरण गुप्त, एकांत श्रीवास्तव, अमृता प्रीतम)

Question 6.
पिताजी किससे रुपए निकाल लाए थे?

Question 7.
शादी की क्या-क्या तैयारियाँ की गई?

Question 8.
उपर्युक्त खंड का संक्षेपण करें।

Question 9.
संक्षेपण के लिए उचित शीर्षक दें।

Question 10.
सूचना : कोष्ठक से सही हिंदी शब्द चुनकर मिलान करें।

Advance – जीवाणु
Percentage – ऊर्जा
Geography -पेशगी
Bacteria – वाणिज्य
Humanities – प्रतिशत
Energy – मानविकी
Commerce – प्रतिमान
Pattern – भूगोल

सूचना : ‘दवा’ कहानी का अंश पढ़ें।

मित्र ने कहा, “खैर, मुझे कोशिश तो कर लेने दीजिए। आप सब लोग बाहर हो जाइए।”
सब बाहर चले गए। मित्र अनंग जी के पास बैठे और बोले।

Question 11.
संकेतों के आधार पर मित्र और अनंग जी के बीच का वार्तालाप तैयार करें।

  • मित्र द्वारा अनंग जी की प्रशंसा करना
  • मित्र को देखकर अनंग जी का खुश होना
  • मित्र द्वारा कविता-पाठ करने की विनती करना

सूचना : बहादुरशाह ज़फ़र के खत का यह वाक्य पढ़ें।

  • दिल्लीवाले मुझको रोते होंगे। वे क्या यह नहीं जानते, कि मैं भी उनको रोता हूँ। .

Question 12.
उपर्युक्त वाक्य के आधार पर बहादुरशाह ज़फ़र के चरित्र पर टिप्पणी लिखें।
सूचना : निम्नलिखित हाइकू पढ़ें।

धन्य है वर्षा
खेतों में कविताएँ
बोते किसान।

Question 13.
हाइकू का भावार्थ लिखें।

Question 14.
सातवें विश्व हिंदी सम्मेलन में भाग लेने के लिए लेखक सूरीनाम पहूँचे। राष्ट्रपति के उद्घाटन ‘भाषण से वे बहुत प्रभावित हुए। इसके आधार पर लेखक की डायरी लिखें। (7)

  • राष्ट्रपति का भाषण
  • सूरीनाम में हिंदी का प्रचार-प्रसार
  • सूरीनाम और भारत के बीच का संबंध

सूचना : 15 से 19 तक के प्रश्नों में से किन्हीं तीन के उत्तर लिखें। (3×8=24)

Question 15.
हिंदी पुस्तिका में नेहरूजी का भाषण पढ़कर उससे प्रभावित एक छात्रा अपनी सहेली के नाम पत्र लिखती है। वह पत्र तैयार करें।

  • 1947 अगस्त 14 की मध्यरात्रि की वेला
  • स्वतंत्र भारत पर नेहरूजी के सपने
  • भारतीयों का दायित्व

Question 16.
विषली सब्जियाँ : स्वास्थ्य के लिए हानिकारक विषय पर संगोष्ठी में प्रस्तुत करने के लिए आलेख तैयार करें।

  • सब्जियों में रासायनिक खादय एवं कीटनाशकों का प्रयोग
  • स्वास्थ्य पर बुरा असर
  • कई तरह की बीमारियाँ
  • सख्त नियमों का पालन
  • जैव खायों का प्रयोग
  • घर-घर में सब्जी -बाग

Question 17.
‘वह भटका हुआ पीर’ संस्मरण के स्कूटरवाले पात्र का आत्मकथांश तैयार करें।

  • पितृविहीन बालक
  • गरीब बचपन
  • स्कूटर चलाकर रोटी की कमाई
  • माँ का उपदेश
  • दूसरों की प्यास बुझान की कोशिश

Question 18.

निम्नलिखित अंग्रेज़ी खंड का हिदा में अनुवाद करें।
Student life is very important. It is the foundation of future. It is a preparation for the whole life. Future success depends on how it is spent. Students are the leaders of tomorrow.A student learns many new things. He enjoys games. Seen joys games. He takes part in debates. It is a very interesting period.

foundation – नींव
future – भविष्य
preparation – तैयारी
whole life – पूरा जीवन
success – कामयाबी
depend – निर्भर
spent – बिताना
debate – बाद-विवाद

Question 19.
पर्यावरण-मैत्री समाज के लिए विद्यालय का राष्ट्रीय सेवक योजना संघ (NSS Unit) कपड़े की थैली का निर्माण कर रहा है। इसके लिए एक विज्ञापन तैयार करें।

  • प्रकृति के अनुकूल
  • संस्कृति के अनुरूप
  • बदलता दृष्टिकोण

Answers

Answer 1.
आदमी का चेहरा

Answer 2.
कुली पुकारते समय एक आदमी कवि के पास आकर खड़ा हो गया।

Answer 3.
वह सामान सिर पर लादकर मेरे स्वाभिमान के दस कदम आगे बढ़ने लगा।

Answer 4.
नई कविता के सशक्त हस्ताक्षर कँवर नारायण द्वारा लिखित कविता है ‘आदमी का चेहरा’।यात्रा के दौरान स्टेशन पर उतरते समय कुली पुकारने पर एक आदमी समान ढोने के लिए कवि के पास आकर खड़ा हो गया। पहले कुली माल उठाते समय मालिक होने के नाते कवि के साथ नहीं चलता था। कवि कहते हैं वह हमेशा मेरे स्वाभिमान से दस कदम आगे चलता है। कई बार यात्राओं में कुली मेरा सामान दो चुका था। कवि ने कभी कुली के चेहरे की ओर नहीं देखा था। वे हमेशा कुली के पीछे चलते थे।

Answer 5.
एकांत श्रीवास्तव

Answer 6.
पिताजी भविष्य निधि से रुपए निकाल लाए थे।

Answer 7.
शादी का मण्डप लगा दिया। कार्ड छप गए। घर में मेहमान आने लगे। हल्दी – तेल चढ़ाना शुरूहो गया।

Answer 8.
घर में शादी की तैयारियाँ हो रही थीं। पिताजी भविष्य निधि से पैसे निकाल लाए। शादी का मंडप तैयार किया गया और कार्ड छप दिए। मेहमान सब आने लगे लेकिन पिताजी मन ही मन बहुत दुखी था।

Answer 9.
पिताजी का दुःख

Answer 10.

Advance – पेशगी
Percentage – प्रतिशत
Geography – भूगोल
Bacteria – जीवाणु
Humanities –  मानविकी
Energy – ऊर्जा
Commerce – वाणिज्य
Pattern – प्रतिमान

Answer 11.

मित्र : अरे यार ! में पहुँच गया हूँ।
अनंग जी : मित्र, मैं मर जाऊँगा क्या?
मित्र : घबराए मत अनंग जी आप को कुछ नहीं होगा।
अनंग जी : मुझे लगता है मेरी मृत्यु अभी होगी।
मित्र : तो अनंगजी, आगे हम आपकी आवाज़ कैसे सुनेंगे, जाते-जाते कुछ सुनाते जाइए।
अनंग जी : मन तो नहीं है, फिर भी मैं आपकी प्रार्थना टाल नहीं सकती।
मित्र : (अलमारी से पुस्तक निकालकर) ये लो आपकी कविता की कॉपी। आपकी मीठी आवाज़ कृपया सुनाइए अनंग जी।
अनंग जी : ज़रूर मेरे दोस्त।

Answer 12.
बादशाह बहादुरशाह जफ़र के मन में दिल्लीवासियों के प्रति जो ममता है वही इस कथन से पता चलता है। दिल्लीवासियों की वर्तमान हालत पर वे बिल्कुल दुःखी है। दिल्लीवासियों पर अंग्रेजों के अत्याचार उन्हें रुला रहे हैं। बादशाह और देशवासियों के बीच अटूट रिश्ता है। एक सच्चे देशप्रेमी के रूप में बादशाह का चित्र यहाँ उभर आता है।

Answer 13.
यह हाइकू भगवतशरण अग्रवाल द्वारा रचित है। इसमें वर्षा की महिमा की ओर इशारा किया है। वर्षा जीवनदाता है। तन-तोड मेहनत करके खेतों में नए जीवन की कविताएँ बोनेवाले किसान के कारण वह धन्य हो जाती है। वर्षा के बिना धरती सुखा-रूखा रह जाएगा। गर्मी से तड़प-तड़प कर रहनेवालों को वर्षा नया जीवन प्रदान करता है।

Answer 14.
10 मार्च 2015
सातवें विश्व हिंदी सम्मेलन का पहला दिन जीवन का सुनहरा पल है। मुझे सूरीमान अपना देश जैसा ही लग रहा है। राष्ट्रपति ने अपने भाषण में भारत और हिंदी की खूब तारीफ़ की। यह सुनकर में बिलकुल रोमांचित हुआ। सूरीनाम और भारत के बीच के आत्मीय सबंध को भी उन्होंने सूचित किया। सूरीनाम में हिंदी के प्रचार-प्रसार में हिंदी फिल्मों ने जो भूमिका निभाई थी, इसके बारे में राष्ट्रपति ने अपने विचार प्रकट किए। हिंदी फिल्मों के प्रति सूरीनामी लोगों का लगाव देखकर मैं बिलकुल चकित रह गया। हिंदी भाषा और हमारी हमारी संस्कृति के प्रति सूरीनामी लोगों का लगाव बहुत ही सराहनीय है।

तिरुवल्ला,
30-3-2016

Answer 15.
प्रिय सोना,
कैसी हो? तुम्हारी परीक्षा कैसी थी? मुझे गणित बहुत कठिन रहा। गर्मी की छुट्टियों में कहाँ जाना चाहती हो? अरे यार, एक खास बात कहने के लिए मैं यह पत्र लिख रही हूँ। मुझे जवाहरलाल जी का एक भाषण पढ़ने का अवसर मिला। यह भाषण 1947 अगस्त 14 की मध्यरात्री की वेला में लाल किले पर तिरंग झंडा फहराते हुए नेहरूजी ने किया था। कितना जोशीला भाषण था यार। यह असल में सबके दिल को छूनेवाला था। स्वतंत्र भारत के संबंध में नेहरूजी के जो सपने थे उसे उन्होंने भाषण में सूचित किया। भाषण में सिर्फ उन्होंने अपने सपने ही नहीं, देश की चुनौतियों को भी हमारे सामने रखा। नेहरूजी के अनुसार यह वचन को पालन करने का समय है, साथ ही साथ देश की प्रगति के लिए काम करने का भी।

गुलामी से बचे जनता को देश की लिए परिश्रम करने का आह्वान अपने भाषण में उन्होंने दिया। हर एक की आँखों से आँसू मिटाने के लिए कठिन मेहनत करने की चेतावनी भी उन्होंने भाषण में दी। . नेहरूजी का यह भाषण नई पीढ़ी के लिए बिल्कुल प्रेरणादायक है। यह भाषण युवा पीढ़ी के मन में जोश भरनेवाला है। साथ ही देश की प्रगति के लिए परिश्रम करने का आह्वान देनेवाला

भी है। इस भाषण की सी.डी. मेरे पास है। यह भी मैं पत्र के साथ भेज रही हूँ। तुम ज़रूर यह भाषण सुनें। तुम्हें भी एक नई ऊर्जा मिल जाएगी। अगले हफ्ते में गाँव आ रही हूँ। उस वक्त हम ज़रूर मिलेंगे।

तुम्हारा प्रिय दोस्त,
(हस्ताक्षर)
षीला

सेवा में,

सोना कपूर,
‘सोनम विल्ला’
गाँधी रोड,
मुंबई।

Answer 16.
भारत एख कृषि प्रधान देश है। यहाँ के 80% से अधिक लोग किसान है। यहाँ के लहलहाते खेतों में कई प्रकार के अनाज, सब्जियाँ आदि की खेती होती है। प्राचीनकाल से ही किसान खेतों में पसीना बहाकर अनाज उगाते हैं। जिसके फलस्वरूप देश की आय भी बढ़ रही है और जनता की माँग भी। सब्जियों की खेती में कई प्रकार की रासायनिक पदाथों और कीटनाशकों का प्रयोग बढ़ता जा रहा है। कभी-कभी किसान अपने फसलों की सुरक्षा के लिए कीटनाशकों का प्रयोग कर रहे हैं, लेकिन इसका प्रयोग कई प्रकार की बीमारियों को आमंत्रित करता है। एकालेक्स, एन्डोसलफान, पेरिफरस जैसे कई कीटनाशकों का प्रयोग खेतों में हो रहा है। ये सब कैंसर जैसे बीमारियों का कारण बन जाते हैं।

सब्जियाँ हमारे भोजन का अनिवार्य अंग ही है। विषैली सब्जियाँ खाने पर स्वास्थ्य पर उसका बुरा असर पड जाता है। लोग त्वचा संबंधी बीमारियाँ, फेफ़डे संबंधी बीमारियाँ आदि के शिकार बन जाते हैं। कर्नाटक, तमिलनाडु जैसे अन्य राज्यों से भी विषेली सब्जियाँ लगातार आ रही है।
रासायनिक पदार्थों और कीटनाशकों के प्रयोग में देश के सख्त कानून हैं। लेकिन इनका पालन सही ढंग से नहीं हो रहा है। अन्य राज्यों से आनेवाली विषैली सब्जियों पर रोक लगाना चाहिए और कीटनाशकों के प्रयोग करनेवालों को कठिन दंड भी देना चाहिए।

केरल में अब जैव-खेती का प्रचार बढ़ता जा रहा है। विषैली सब्जियों के परिणाम से लोग अवगत है। इसलिए ही जैव-खेती को व्यापक रूप से अपनाया गया है। जैव-खेती में पैदा की जाने वाली सब्जियाँ स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। खेती में लगे हुए किसानों को अपने फसलों के लिए अच्छा दाम भी मिल रहा है। आज केरल के घर-घर में सब्जी-बाग देख सकते हैं, जो खेती के क्षेत्र में होने वाले परिवर्तन का प्रमाण है।

Answer 17.
लोग मुझे मशकवाला स्कूटर पुकारते हैं। दूसरों को पानी पिलाने में जो सुख मिलता है वह और किसी से नहीं मिलता। मेरे जीवन ने इस सत्य को साबित कर दिया है। इस पुण्य की प्रेरणा मुझे अपनी माँ से ही प्राप्त हुई है। ‘तू पानी पिलाया कर, पुण्य मिलता है’ – माँ के वचन अब भी मेरे कानों में गूंज रहे हैं। तब से इस मशक के साथ मेरी रिश्ता जुडी हुई है।

मेरा बचपन गरीबी से गुज़र गया था। बचपन से ही विधाता ने पिताजी को छीन लिया था। स्ट्रीट लाइट के नीचे बैठकर में अखबार पढ़ा करता था। घर के सभी दायित्व मेरे कंधों पर थे। दिल्ली के रास्ते पर स्कूटर चलाकर जीविका कमाता रहा। मेरे स्कूटर को देखते ही लोग दौडकर आते हैं। लोगों से मुझे बेहद् प्यार मिल रहा है। सुबह से ही पानी का मशक लेकर मैं घर से निकलता हूँ। जब पानी खतम हो जाती है तब दुकान से मशक भरवाते हैं। रास्ते के कोने-कोने पर लोग मेरा इंतज़ार कर रहे हैं। लोगों से मिलने वाले यह प्यार ही मेरे जीवन में काफी है।

में कई सालों से दिल्ली के रास्ते पर यह पानी की मशक से घूम रहा हूँ और खुशी से उन्हें पानी पिला रहा हूँ। लोगों की दुआ से अब मैं ग्राजुएट बन गया हूँ। लेकिन पानी पिलाने पर जो सुख मिलता है वह नोकरी से नहीं मिलता। पानी की इस मशक से मैं ने लोगों से जो रिश्ता जोड दी है वह मैं हमेशा बनाए रखना चाहता हूँ। क्योंकि इससे मुझे जो पुण्य मिलता है, वह ईश्वर से मिला देता है।

Answer 18.
विद्यार्थीजीवन बहुत महत्वपूरण है। यह भविष्य की नींव है, परे जीवन की तैयारी है। विद्यार्थी जीवन हम कैसे खर्च करते हैं। उसकी कामयाबी भी उसपर निर्भर है। छात्र ही कल के नेता है। छात्र कई बातों को सीख लेता है, खेल का मज़ा उठाते हैं। वाद-विवाद में भाग लेते हैं। विद्यार्थी जीवन बहुत ही रोचक समय है।

Answer 19.

प्लास्टिक छोडो, पर्यावरण को साफ रखो
इस्तेमाल करें ……………… कपडे की थैली
राष्ट्रीय सेवक योजना संघ की देन
प्रकृति के अनुकूल
हमारी संस्कृति के अनुरूप
स्वस्थ समाज का एक नया दृष्टिकोण

Plus Two Hindi Previous Year Question Papers and Answers

Leave a Comment

error: Content is protected !!